ആഗസ്റ്റ് 17, ആഗസ്റ്റ് 24, ആഗസ്റ്റ് 31, ഒക്ടോബര്‍ 19, നവംബര്‍ 16, ജനുവരി 18 എന്നീ ശനിയാഴ്ചകള്‍ സ്ക്കൂളുകള്‍ക്ക് പ്രവൃത്തി ദിവസങ്ങളായിരിക്കും.:SSLC വിദ്യാര്‍ത്ഥികള്‍ക്കായി മിഡ്ടേം പരീക്ഷകളുടെ ചോദ്യപേപ്പര്‍ പ്രസിദ്ധീകരിച്ചു..Guidelines for submission of application for assistance from National Foundation for Teacher's Welfare
Powered by Blogger.

उषा प्रियंवदा

गजाधर बाबू ने कमरे में जमा सामान पर एक नज़र दौड़ाई -- दो बक्से, डोलची, बालटी -- ''यह डिब्बा कैसा है, गनेशी?'' उन्होंने पूछा। गनेशी बिस्तर बाँधता हुआ, कुछ गर्व, कुछ दु:ख, कुछ लज्जा से बोला, ''घरवाली ने साथ को कुछ बेसन के लड्डू रख दिए हैं। कहा, बाबूजी को पसन्द थे, अब कहाँ हम गरीब लोग आपकी कुछ खातिर कर पाएँगे।'' घर जाने की खुशी में भी गजाधर बाबू ने एक विषाद का अनुभव किया जैसे एक परिचित, स्नेह, आदरमय, सहज संसार से उनका नाता टूट रहा था।
''कभी-कभी हम लोगों की भी खबर लेते रहिएगा।'' गनेशी बिस्तर में रस्सी बाँधते हुआ बोला।
''कभी कुछ ज़रूरत हो तो लिखना गनेशी! इस अगहन तक बिटिया की शादी कर दो।''
गनेशी ने अंगोछे के छोर से आँखे पोछी, ''अब आप लोग सहारा न देंगे तो कौन देगा! आप यहाँ रहते तो शादी में कुछ हौसला रहता।''
गजाधर बाबू चलने को तैयार बैठे थे। रेल्वे क्वार्टर का वह कमरा, जिसमें उन्होंने कितने वर्ष बिताए थे, उनका सामान हट जाने से कुरूप और नग्न लग रहा था। आँगन में रोपे पौधे भी जान पहचान के लोग ले गए थे और जगह-जगह मिट्टी बिखरी हुई थी। पर पत्नी, बाल-बच्चों के साथ रहने की कल्पना में यह बिछोह एक दुर्बल लहर की तरह उठ कर विलीन हो गया। Listen Audio Playback click here or

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

Saturday, 29 September 2012

मनुष्यता कविता का अनुवाद

हिंदी अद्यापक श्री. फ्रान्सी जी ने मलप्पुरम जिला के तिरूर - परवण्णा जी.वी.एच.एस.एस में काम करते समय दसवीं कक्षा की मनुष्यता कविता का अनुवाद करने की कोशिश की हैं। आपको  हिंदीसोपान की ओर से बधाईयाँ।                         <<<<<  अनुवाद के लिए यहाँ दबाएँ  >>>>>>

Amazing performance of Saumitrapriya- Urmilla- based on SAKET by Maithili Sharan Gupt


Saturday, 8 September 2012

सभी पूरे एक दिन हिंदी की पूजा करते हैं.?

साल के प्रत्येक 14 सितम्बर को "हिंदी-दिवस" मनाया जाता है... क्यों मनाया जाता है, कहना मुश्किल है... लेकिन मनाया जाता है... शायद इसीलिए मनाया जाता है क्योंकि 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी... इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये सन् 1953 से संपूर्ण भारत में 14 सितंबर को प्रतिवर्ष "हिन्दी-दिवस" के रूप में मनाया जाता है... स्वतंत्र भारत की राजभाषा के प्रश्न पर काफी विचार-विमर्श के बाद यह निर्णय लिया गया जो भारतीय संविधान की धारा 343(1) में लिखा है: संघ की राज भाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी होगी... संघ के राजकीय प्रयोजनों के लिए प्रयोग होने वाले अंकों का रूप अंतर्राष्ट्रीय रूप होगा... और हर सरकारी संस्था अपने लेखन कार्यों में इसका उपयोग करेगी... बस यहीं आकर बात ख़त्म हो जाती है... संविधान में हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा दे दिए जाने के कारण ही हम "हिंदी-दिवस" मनाते आ रहे हैं... और 14 सितम्बर के दिन सरकारी कार्यालयों का आलम तो देखने लायक होता है... हर सरकरी दफ्तर में हिदी से संदर्भित ढेर सारे आयोजन किये जाते हैं... भाषण, निबंध लेखन, परिचर्चा इत्यादि... चलिए कुछ भी हो... एक दिन ही सही लेकिन "बेचारी हिंदी" की लज्जा तो रख ली जाती है... मैं यह नहीं कहना चाहता की "हिंदी-दिवस" महज़ सरकारी दफ्तरों का एक तामझाम है... मैं तो सरकारी कर्मचारियों का ह्रदय से आभारी हूँ... कि वो कम से कम हमारी मातृभाषा की इतनी इज्ज़त तो कर रहे हैं... ये सभी पूरे एक दिन हिंदी की पूजा करते हैं... पूरे एक दिन हिंदी पर ही इनका ध्यान होता है...राष्ट्रभाषा - राजभाषा  राष्ट्रभाषा - राजभाषा PDF

Wednesday, 5 September 2012

Kerala School Kalolsavam


Number Year Venue      Gold Cup Winners
1 1957 Ernakulam
2 1958 Thiruvananthapuram
3 1959 Chittoor Kozhikode
4 1960 Kozhikode
5 1961 Thiruvananthapuram
6 1962 Changanassery
7 1963 Thrissur
8 1964 Thiruvalla
9 1965 Shoranur
.. 1966 Not conducted
.. 1967 Not conducted
10 1968 Thrissur
11 1969 Kottayam
12 1970 Irinjalakkuda
13 1971 Alappuzha
.. 1972 Not conducted
.. 1973 Not conducted
14 1974 Mavelikkara
15 1975 Pala
16 1976 Kozhikode
17 1977 Ernakulam
18 1978 Thrissur
19 1979 Kottayam
20 1980 Thiruvananthapuram
21 1981 Palakkad
22 1982 Kannur
23 1983 Ernakulam
24 1984 Kottayam
25 1985 Ernakulam
26 1986 Thrissur
27 1987 Kozhikode
28 1988 Kollam
29 1989 Ernakulam
30 1990 Alappuzha
31 1991 Kasargode Kozhikode
32 1992 Tirur Kozhikode
33 1993 Thrissur        Kozhikode
34 1994 Kozhikode
35 1995 Kannur
36 1996 Kottayam
37 1997 Ernakulam
38 1998 Thiruvananthapuram
39 1999 Kollam
40 2000 Palakkad
41 2001 Thodupuzha Kozhikode
42 2002 Kozhikode Kozhikode
43 2003 Alappuzha Kannur
44 2004 Thrissur         Kozhikode
45 2005 Tirur Palakkad
46 2006 Ernakulam Palakkad
47 2007 Kannur         Kozhikode
48 2008 Kollam         Kozhikode
49 2009 Thiruvananthapuram Kozhikode
50 2010 Kozhikode Kozhikode
51 2011 Kottayam         Kozhikode
52 2012 Thrissur         Kozhikode
53 2013 Malappuram

Tuesday, 4 September 2012


है आज बहुत हर्षि‍त मन मेरा,
शि‍क्षक दि‍वस है पर्व सुनहरा।
इस पुलकि‍त पावन अवसर पर,
वंदन करता है मन मेरा।।

I feel very happy today,
Teacher's Day gala golden.
On this auspicious occasion blithe,
The invocation of my mind ..

Your glory Your glory
Your thoughts, your wisdom.
Your only preaching the Word
Welfare to everyone ..

What is your definition of dignity to
How to celebrate your glory.
Mary is afraid stylus,
Not to forget it somewhere ..

You only tridosha informing
Sptdhatuon be knowledge.
'Ayurveda' the Ashta - organs,
You said to be rational ..

Telling the history of Ayurveda,
Be aware of its importance.
By visionary philosophy,
Spirit - God made ​​the union ..

Assigning values ​​of Sanskrit,
And language instruction.
Ayurvedic medicine, the
'Ayurvedamrit "people - people fed up ..

Masters such as the invocation of the heart,
The blithe - on occasion.
Re: - Re: Mille bow,
Re: - Re: Mille naman ..

© hindiblogg-a community for hindi teachers
  

TopBottom